अदबी मुशायरा एक शाम अचानक के नाम का खुबसूरत मंज़र

लोगों ने अदबी मुशायरे को पसंद किया आने वाले दिनों में हम इससे भी अच्छा मुशायरा कराने का प्रयत्न करेंगे -अरशद जमाल

मा० अखिलेश यादव ने लखनऊ में कराई अफ्तार पार्टी

मा० अखिलेश यादव ने लखनऊ में अफ्तार पार्टी दी जिसमे २०००० से अधिक लोगों ने शिरकत की

मौलाना आज़ाद मेमोरियल एकेडमी

मौलाना आज़ाद मेमोरियल एकेडमी की वेबसाइट के शुबारंभ पर मा०अखिलेश जी के इस उठाये गये कदम की सराहना करते हुवे अरशद जमाल

एक शाम अचानक के नाम

अदबी मुशायरा एक शाम अचानक के नाम -मुख्यअतिथि रहे शकील आज़मी जिनकी शान में बस यही किह देना काफी होगा की परों को खोल ज़माना उड़ान देखता है .. तू क्या ज़मीन पे बैठ कर आसमान देखता है ....!!

माइनॉरिटी स्टूडेंट फोरम मऊ

माइनॉरिटी स्टूडेंट फोरम मऊ के डायरेक्टर अरशद जमाल ने मऊ के होनहार बच्चों को सम्मानित किया

Nagar palika Gold Cup Football Tournament 2016- Arshad Jamal News

‘मस्कन’ में आयोजन समिति और जिला फूटबाल संघ की बैठक
18 दिसम्बर से नगर पालिका गोल्ड कप आल इण्डिया फुटबाल टूर्नामेंट  होगा आरम्भ-अरशद जमाल
मऊनाथ भंजन। नगर पालिका परिषद के पूर्व अध्यक्ष, अध्यक्ष प्रतिनिधि व नगर पालिका गोल्ड कप आल इण्डिया फुटबाल टूर्नामेंट ;छच्ळब्।प्थ्ज्द्ध के संयोजक श्री अरशद जमाल ने आज एक प्रेस रिलीज जारी कर बताया है कि आल इण्डिया फुटबाल फेडरेशन से फुटबाल मैच कराने की स्वीकृति मिल चुकी है जिससे पिछले वर्ष की तरह इस साल भी नगर पालिका गोल्ड कप आल इण्डिया फुटबाल टूर्नामेंट के आयोजन का रास्ता साफ हो गया है।


 उन्होंने बताया कि इस सम्बन्ध में मैच में टीमों को सम्मिलित करने, आवश्यक व्यवस्था व आवश्यकताओं की पूर्ति सुनिश्चित करने और दर्शकों की सुविधा को मद्देनजर रखते हुये बेहतर आयोजन के पोर्वाेपाय करने हेतु आज उनके कैम्प कार्यालय ‘मस्कन’ पर आयोजन समिति और जिला फुटबाल संघ की विशेष बैठक हुयी। इस बैठक में पिछले वर्ष की अपेक्षा इस बार और बेहतर टीमों को शामिल करने और चुस्त दुरूस्त व्यवस्था देन पर विचार किया गया तथा अलग अलग लोगों के बीच जिम्मेदारियां सौंपी गयीं। उन्होंने कहा कि 1978 के बाद पहली बार उत्तर प्रदेश में देश की मानी जानी फुटबाल टीमें खेलेंगी। आगामी 18 दिसम्बर 2016 से आरम्भ होने वाले इस फुटबाल मैच में मुहम्मडन स्पोर्टिंग फुटबाल क्लब कोल्काता, आर.सी.एफ. कपूरथला पंजाब, आर्मी ग्रीन बैंगलोर, रेलवे फुटबाल क्लब पश्चिम बंगाल, जम्मू एण्ड कश्मीर बैंक जम्मू कश्मीर, बी.एस.एफ. जालन्धर पंजाब आदि नामी टीमों के दरमियान लीग सिस्टम पर आधारित मैच होगा, जो बहुत ही रोचक होगा। संयोजक श्री जमाल ने बताया कि मेरा प्रयास है कि इस लीग मैच में आई.एस.एल. के इलावा कई अन्तर्राष्ट्रीय खिलाड़ी भी भाग लें। इस क्रम में बताते हुये श्री जमाल ने कहा कि ए.आई.एफ.एफ. द्वारा एक टीम में 4 विदेशी खिलाड़ियों के खेलने की अनुमति दी गयी है। मुझे उम्मीद है कि पिछले साल की तरह इस साल भी मऊ की जनता का पूर्ण सहयोग हमें प्राप्त होगा एवं सभी लोग पूर्ण अनुशासन व संयम के साथ फुटबाल मैच का आनन्द लेंगे। 
बैठक में विशेष रूप से मुरली धर, अली अब्बास, हाजी मुनव्वर, फैज अहमद, मास्टर मजहर अली, उमेन्द्र सिंह, फैयाज मेम्बर, अब्दुल कादिर मेम्बर, इकबाल मेम्बर के संग फुटबाल से सम्बद्ध अन्य जिम्मेदार लोग भी मौजूद रहे।

Arshad jamal News- Samajwadi Jansabha Feza Ibn Faizi Gate

आतंकियों और काला धन रखने वालों का तो पता नहीं, लेकिन अवाम की कमर जरूर टूट गयी-अरशद जमाल
सरकार के नोट बन्दी के फैसले से अर्थव्यवस्था बुरी तरह बरबाद, अवाम परेशान-अल्ताफ अंसारी

मऊनाथ भंजन। देश की स्थिति को मद्देनजर रखते हुये समाजवादी पार्टी की नगर इकाई की जानिब से फैजी गेट पर एक जन सभा आयोजित की गयी। इस जन सभा में वक्ताओं ने नोट बन्दी के कारण देश की बिगड़ती दशा, अवाम को हो रही समस्याओं और देश की चरमराती हुयी अर्थव्यवस्था तथा नोट की कमी पर विस्तृत चर्चा की। इस अत्यन्त महत्वपूर्ण मुद्दे पर होने वाली चर्चा को सुनने के लिये अप्रत्याशित भीड़ उमड़ पड़ी। अवाम को धैर्य से काम लेते हुये सभी लोगों की समान मदद करने की प्रेरणा दी।
इस अवसर पर नगर पालिका परिषद के पूर्व अध्यक्ष अरशद जमाल ने अपने उद्गार में कहा कि नरेन्द्र मोदी मात्र बीजेपी के प्रधानमंत्री नहीं हैं वे पूरे देश के प्रधानमंत्री हैं। इस लिये हम सभी भारतीय उनका उतना ही सम्मान करते हैं जितना बीजेपी के लोग करते हैं। उन्होंने कहा कि नोट बन्दी अगर देश हित में है और वास्तव में इस काम से काला धन समाप्त किया जा सकता है तो हम सरकार के साथ हैं। लेकिन इस में सरकार अपनी योजना स्पष्ट नहीं कर पा रही है। उन्होंने कहा कि हुकूमत देश की अवाम को यह बताने में असमर्थ है कि देश के हालात कब तक लाइन पर आ जायेंगे जब कि विशेषज्ञों का मानना है कि देश की नोट बन्दी से अर्थव्यवस्था को जो झटका लगा है उसे लाइन पर लाने में 8 माह से एक वर्षा लग सकता है।

श्री जमाल ने कहा कि देश बहुत बड़ा है और सरकार को निर्णय लेते समय अच्छे और बुरे प्रभावों पर गहरी नजर तखनी चाहिये थी। श्री जमाल ने कहा कि केन्द्र सरकार को केवल 1 रूपये का नोट छापने का अधिकार है और इससे ऊपर के नोट आरबीआई छापती है। 
14 लाख करोड़ के बड़े नोट, 3 लाख करोड़ के 50 व 100 व छोटे नोट चलन में हैं। 500 व 1000 रूपये के नोट बन्दी से देश की अर्थव्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिये जितना नोट वांछित है, नोट छापने वाली संस्थाओं की उतनी क्षमता नहीं है। इस लिये नोट छापने में और अधिक समय लग सकता है। श्री जमाल ने नोट बन्दी से होने वाले नुक्सान व फायदे तथा नोट छापने से लेकर अवाम तक नोट पहुँचने की प्रक्रिया पर भी विस्तृत चर्चा की। उन्होंने कहा कि इस फैसले से केवल गरीबों का ही नुक्सान हुआ है। विदेशों से काला धन वापस लाने के बजाय देशवासियों की मेहनत की कमाई को ही काला धन समझ कर लोगों को बड़ी मुसीबत में डाल दिया है। श्री जमाल ने कहा कि मऊ जैसे छोट शहर में भी सारे कारोबार ठप पड़े हुये हैं बुनकरों द्वारा तैयार की गयी साड़ियाँ बिक नहीं पा रही हैं और धागे भी नहीं मिल पा रहे हैं। अगर यही हालात बने रहे तो बुनकर भी भूखमरी के शिकार हो जायंेगे। उन्होंने कहा कि इस फैसले से आतंकियों और काला धन रखने वालों का तो पता नहीं, अल्बत्ता अवाम की कमर जरूर टूट चुकी है। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं चलेगा, सरकार को अपनी पालीसी स्पष्ट करना होगा कि कब तक इस समस्या से अवाम को निजात मिलेगी, क्यों कि यह मामला पूरे देश का है। श्री जमाल ने कानपूर में हुये रेल हादसे में मरने वाले लोगों को श्रद्धांजलि दी और उनके आश्रितों को नौकरी देने तथा जांच की मांग की।


सपा के मऊ विधान सभा उम्मीदवार अल्ताफ अंसारी ने कहा कि प्रदेश सरकार सभी लोगों के लिये समान उन्नति का काम कर रही है। उन्होंने सरकार की उपलब्धियाँ गिनवायीं। मुल्क के हालात पर बोलते हुये कहा कि सरकार द्वारा नोट बन्दी के फैसले से अवाम को ही नुक्सान हुआ है जबकि भारी मात्रा में काला धन रखने वाले कालाबाजारियों के चहरों पर शिकन नजर नहीं आ रही है। उनके कोई काम रूकते नहीं दिख रहे। उनके पैसे भी घर बैठे सफेद हो जा रहे हैं। श्री अल्ताफ ने कहा कि अवाम भूखी है, बेरोजगार है, जबकि कुछ लोग 500 करोड़ की शादियाँ रचा रहे हैं। आप कब तक अवाम को पाकिस्तान, आतंकवाद और सर्जिकल इस्ट्राइक के नाम पर बेवकूफ बनाते रहेंगे। श्री अल्ताफ ने आगामी 23 नवम्बर को गाजीपुर में सपा की होने वाली जनसभा में भारी तादाद में पहुँचने की अपील की है।
इस अवसर पर जहीर सेराज नगर अध्यक्ष सपा, कमरूज्जमां व्यापारी मेम्बर, इस्माईल सभासद, फैज अहमद मेम्बर, समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता व बड़ी संख्या में मौजूद रही। अध्यक्षता अरशद जमाल ने की तथा संचालन फरीदुल हक ने किया।

SWACH SARVECHCHAD- ARSHAD JAMAL

सूर्या इंटरनेशनल होटल वाराणसी में स्वक्ष सर्वेक्षण पर आज कार्यशाला चली।
मुझे इसपर विचार रखने के लिये विशेष तौर से आमंत्रित किया गया था। कार्यशाला का उद्घाटन वाराणसी नगरनिगम के महापौर श्री रामगोपाल मोहले ने किया।
मंडलायुक्त वाराणसी मण्डल, ज़िलाधिकारी वाराणसी, निदेशक स्थानीय निकाय, स्वक्ष भारत मिशन केन्द्र सरकार के निदेशक, महापौर गोरखोर ने भी सम्बोधित किया।




Note Band Effect- Arshad Jamal News

थाना कोतवाली सदर, मऊ उत्तरप्रदेश मोहल्ला चाँदपुरा के 55 वर्षीय बुनकर HDFC बैंक से पैसा न मिलने से दिल का दौरा पड़ने से मौत होयी है।

बताते है के नेयाज के एक बेटे की तबियत खराब थी। आज सुबह से ही नोट बदलने के लिये लाइन में लगे थे, मगर जब नंबर आया तो पैसा नही मिला। वापसी में अपने मोहल्ले में दिल का दौरा पड़ा। हॉस्पिटल में ले जाने पर डॉक्टर ने उनको मृतक घोषित कर दिया।
मृतक के परिवार में 7 बच्चे है। 3 बेटी और 4 बेटे हैं। किसी की शादी नही हुई है।
पालिका अध्यक्ष शाहिना अरशद जमाल ने उनके परिजनों को 20 लाख रुपया देने को केंद्र सरकार से माग की है।
देखिये तो केंद्र की नोट बन्दी की इस योजना से कितने गरीबो की जान जाती है।



अरशद जमाल
पूर्व चेयरमैन मऊ



Arshad Jamal Note Band News


नोटबंदी: सुप्रीम कोर्ट ने कहा-पूरे इंतजाम नहीं हुए तो सड़क पर हो सकते हैं दंगे

नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटबंदी के दौरान देशभर में चल रही बदइंतजामी के लिए फटकार लगाई है। एक सप्‍ताह में ही दूसरी बार सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कठिन सवाल पूछे हैं।
सुप्रीम कोर्ट के मुख्‍य न्‍यायाधीश टीएस ठाकुर ने केंद्र सरकार से सवाल से सवाल करते हुए कहा कि नोटबंदी के बाद देश के हालात गंभीर हैं, अगर हालात नहीं सुधरे तो सड़क पर दंगें हो सकते हैं।
मुख्‍य न्‍यायाधीश ने केंद्र सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि इससे पहले सुनवाई के दौरान आप कहा था कि जल्‍द ही लोगों को राहत पहुंचाएंगे। पर अब तो आप ने नोट बदलने की राशि को ही 2000 रुपए तक सीमित कर दिया है।
कोर्ट ने यह भी पूछा कि क्‍या देश में 100 रुपए के नोट की कमी है।
इसके बाद कोर्ट ने केंद्र सरकार ने जानकारी मांगी कि आखिर असल समस्‍या क्‍या है। केंद्र सरकार ने इस पर जवाब देते हुए कहा कि रुपए छापना कोई समस्‍या नहीं है। मुख्‍य समस्‍या है कि लाखों रुपयों को देश भर के बैंकों में पहुंचाना और नए एटीएम को लगाना है।
इस पर वकील कपिल सिब्‍बल ने कहा कि केंद्र सरकार इस समस्‍या से निपटने के लिए तैयार नहीं है। इस पर अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा कि कपिल सिब्‍बल इस मुद्दे का राजनीतिकरण कर रहे हैं। इस पर सिब्‍बल ने कहा कि मुझे अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता है।
इसी सप्‍ताह टीएस ठाकुर ने 500-1000 रुपए के नोट बैन होने की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा था कि सरकार को लोगों की तकलीफ को ध्‍यान में रखना होगा और पूरे इंतजाम करने होंगे।

Arshad Jamal News

8 लाख रूपये की लगत से निर्माण एवं विकास कार्याें का शिलान्यास
जल्द ही 14 करोड़ की लागत से परदहाँं व कन्धेरी में ओवरहेड टैंक व ट्यूब्वेल होंगे स्थापित
अरशद जमाल के नेतृत्व में हमारे वार्ड ने तेजी से किया है विकास-रजनीश
अवाम से मिलने पर उनके दुःख दर्द का हल निकालना होता है मेरा मकसद, विकास को वृहद पैमाने पर करने की जरूरत-अरशद जमाल
मऊनाथ भंजन। नगर पालिका क्षेत्र स्थित वार्ड नं0 5 के मुहल्ला परदहाँ में लग भग 18 लाख रूपये की लागत से निर्मित होने वाले निर्माण एवं विकास कार्याें का शिलान्यास आज पालिका अध्यक्ष प्रतिनिधि अरशद जमाल के करकमलों द्वारा सम्पन्न हुआ। 
इस अवसर पर लोगों को सम्बोधित करते हुये अध्यक्ष प्रतिनिधि अरशद जमाल ने कहा कि जब मैं अवाम से मिलता हूँ तो मेरा मकसद यही होता है कि उनकी समस्याओं को सुनकर उसे तत्काल दूर करूँँ। उन्होंने कहा कि मंै हमेशा अपने स्तर से इस बात की चिन्ता में लगा रहता हूँ कि मेरे क्षेत्र की अवाम को किसी दुश्वारी का सामना न करना पड़े और मैं नये-नये विकास की सम्भावनाओं को सृजित करता रहूँ। यह बातें अध्यक्ष प्रतिनिधि श्री अरशद जमाल ने उक्त शिलान्यास के मौके पर भव्य जनसमूह को सम्बोधित करते हुये कही हैं। उन्होंने वार्ड नं0 5 स्थित परदहाँ एवं बकवल क्षेत्रों में अमरुत योजना के अन्तर्गत लगभग 14 करोड़ रूपये की लागत से दोनों स्थानों पर एक-एक ओवरहेड टैंक व दो-दो ट्यूब्वेल जल्द ही स्थापित कर पेयजल आपूर्ति की नयी व्यवस्था लागू करने की घोषणा भी की। उन्होंने ने बताया कि जल्द ही परदहाँ, बकवल व समीपवर्ती क्षेत्रों को इस नई व्यवस्था से पेयजल की समस्या से मुक्ति देने का हमारा मंसूबा है। अरशद जमाल ने कहा कि पानी जीवन गुजारने हेतु सबसे अधिक आवश्यक वस्तुओं में विशेष है। इसे संचित करने और अनावश्यक दोहन से लोगों को रोकने की भी हमारी जिम्मेदारी है। श्री जमाल ने कहा कि आपको अपने स्तर से भी पानी के सदुपयोग की हर सम्भव कोशिश करनी चाहिये। अरशद जमाल ने कहा कि हम आपकी सेवा हेतु तत्पर हैं। आपको इस बात का भी ध्यान रखना चाहिये कि कौन नगर के विकास के लिये उचित व्यक्ति है और कौन आपके हितों की अन्देखी कर आपके हक हुकूक एवं आवश्यकताओं की पूर्ति करने में अक्षम है। श्री जमाल ने कहा कि विकास को और वृहद पैमाने पर करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि नगर वासियों को आवागमन एवं अन्य तमाम प्रकार की मूलभूत सुविधाओं को उपलब्ध कराना उनकी प्राथमिकताओं में शामिल है, जिसके हेतु वह हर सम्भव प्रयास कर रहे हैं और आगे भी उनका यह प्रयास निरन्तर जारी रहेगा। 
शिलान्यास के इस अवसर पर सभासद रजनीश ने कहा कि मेरे क्षेत्र का विकास श्री जमाल के नेतृत्व में बहुत तेजी से हो रहा है। इन्होंने वार्ड के सभी क्षेत्रों में आवश्यक निर्माण कार्य कराये हैं। जिसके लिये मैं इनका आभार व्यक्त करता हूँ।
इस मौके पर पूर्व सभासद विद्यावती, पंकज, विनय, आलोक, अशोक, गायत्री देवी, सुमन, सत्पाल, घुरहू, बच्चन, प्रेमशंकर, राधे, मम्ता देवी, फूलमती, पूनम, विजय, कृष्णमोहन, शैलेश, अजय, मुराली, फतहबहादुर, रमेश आदि के साथ स्थानीय लोगों की बड़ी भीड़ उपस्थित रही।

Bhopal Encounter-Arshad Jamal Chairman Mau


भोपाल इन्काउण्टर की अदालती जाँच हो, पुलिस चाहती तो निहत्थों को कर सकती थी गिरफ्तार

घटना के वास्तविकता की जाँच कर न्याय हेतु सुप्रीम कोर्ट से एसआईटी के गठन की अपील-अरशद जमाल

मऊनाथ भंजन। आज मऊ नगर पालिका परिषद के पूर्व अध्यक्ष अरशद जमाल ने भोपाल में हुये स्टूडेंट इस्लामी मूवमेंट आॅफ इण्डिया (सीमी) से सम्बद्ध 8 कैदियों के फरार होने और उन्हें पुलिस द्वारा मारे जाने पर तश्वीश जाहिर की है। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश पुलिस की तरफ से प्राप्त सूचना के अनुसार इन कैदियों के पास से कोई ऐसा हथियार बरामद नहीं हुआ है जिसके चलते पुलिस के लिये उन फरार कैदियों को गिरफ्तार करना जोखिम भरा होता। फरार निहत्थे कैदियों को मारने के बजाय उन्हें पकड़ना आसान था, पर उनको पुनः पकड़ने का प्रयास नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि इण्काउण्टर की यह कहानी सही नहीं, इस लिये इस की न्यायिक जाँच होनी चाहिये ताकि वास्तविकता सामने आ सके। इसका सबूत टेलीविजन में दिखाई जाने वाली वीडियों में साफ नजर आता है। इस इण्काउण्टर की वीडियो सामने आजाने से फेक इण्काउण्टर का शक पुख्ता हो गया है। इस लिये उक्त कैदियों के फरार होने और फिर उन्हें मारे जाने के पीछे की कवायद की अदालत द्वारा निष्पक्ष जाँच करायई जानी चाहिये। भोपाल में पुलिस के इण्काउण्टर में मारे जाने वाले कैदियों के बारे में अदालती जाँच की माँग करते हुये उन्होंने कहा कि यह मुदभेड़ सही नजर नहीं आती इस लिये इस मामले में मैं सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध करता हूँ कि इस प्रकरण में सुप्रीम कोर्ट स्वयं अपने स्तर से मामले को संज्ञान में लेते हुये एसआईटी का गठन कर किसी रिटायर्ड जज द्वारा अपनी निगरानी में इस की निष्पक्ष तहकीकात करायेे ताकि घटना की वास्तविकता देशवासियों के समक्ष आ जाये और बिरादराने वतन के साथ ही मुसलमानों में व्याप्त बेचैनी दूर हो जाये। श्री जमाल ने कहा कि बेजेपी की केन्द्र सरकार में मुसलमानों को लगातार यह संकेत दिया जा रहा है कि अब न तो उनका दीन महफूज है और न ही इनकी जानें। इस लिये अब न्याय प्राप्ति का एक मात्र न्यायालय ही सहारा है। इस लिये हमारा अनुरोध है कि सुप्रिम कोर्ट स्वयं हस्तक्षेप करे ताकि पीड़ितों को न्याय मिल सके। 

Arshad Jamal News

इग्नू द्वारा पालिका के सभागार में शिक्षा के प्रोत्साहन हेतु कार्यक्रम आयोजित
बुनकर व बुनकर प्रनिधियों, बुद्धिजीवियों, जन प्रतिनिधियों एवं इग्नू के अधिकारियों के बीच विस्तृत वार्ता
नहीं ले सके बुनकर शैक्षणिक संस्थाओं में प्रवेश, लिया तो छूटी पढ़ाई, बुद्धिमान भी शिक्षा की मुख्य धारा से पिछड़े, बीपीपी में बुनकरों से प्रवेश की अपील-अरशद जमाल

मऊनाथ भंजन। इन्दिरा गाँधी नेशनल ओपेन यूनिवर्सिटी (इग्नू) की डीसीसएसकेपीजी कालेज मऊ में चल रही अध्ययन केन्द्र (शाखा) की जानिब से आज नगर पालिका परिषद के सभागार में अपने शिक्षा जागरूकता अभियान के तहत एक कार्यक्रम का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में बुनकर व बुनकर प्रनिधियों तथा नगर के बुद्धिजीवियों, जन प्रतिनिधियों व इग्नू के अधिकारियों के बीच विस्तृत वार्ता हुयी। इग्नू के अधिकारियों ने चर्चा के दौरान लोगों द्वारा पूछे गये प्रश्नों का भी उत्तर दिया।
बैठक को सम्बोधित करते हुये कार्यक्रम के संयोजक एवं मऊ इग्नू शाख के को-आर्डिनेटर डा0 मुहम्मद जेयाउल्लाह ने बताया कि इग्नू द्वारा पूरे देश में हजारों अध्ययन केन्द्रों में लगभग 250 विभिन्न कोर्सेस की शिक्षा दी जाती है। इस में विषेष रूप से 3 प्रकार के स्नातक, 7 विषयों में स्नातकोत्तर, विभिन्न प्रकार के डिप्लोमा, स्नातकोत्तर डिप्लोमा व प्रमाण पत्र के कोर्सेज शामिल हैं। उन्होंने जानकारी देते हुये कहा कि बैचलर प्रिपेरेटरी प्रोग्राम (ठच्च्) जो मात्र इग्नू में इण्टरमीडिएट के समकक्ष मान्य है को बढ़ावा देने के लिये सरकार यह प्रोग्राम चला रही है जिसके तहत बुनकर समाज के शिक्षा स्तर को ऊपर उठाने एवं उन्हें पूर्ण रूप से शिक्षित बनानाने का लक्ष्य निर्धारित है।
मुख्य अतिथि एवं इग्नू, वाराणसी के निदेशक डा0 ए0के0 त्रिपाठी ने कहा कि बुनकरों की शिक्षा की दैनीय स्थिति को मद्देनजर रखते हुये भारत सरकार की टेक्सटाइल मिनिस्ट्री ने ठच्च् कोर्स के लिये बुनकरों की फीस पूर्णतया माफ कर दी है। उन्होंने बताया कि बीपीपी कोर्स इग्नू में इण्टरमीडिण्ट के समकक्ष है। इसे करने के बाद कोई भी बुनकर इग्नू से ही ग्रेजुएशन में प्रवेश ले कर अपना ग्रेजुएशन भी पूर्ण करने के बाद देश के किसी भी महाविद्यालय में प्रवेश लेने के लिये पात्र होगा तथा अपनी आगे की पढ़ाई भी कर सकेगा।
विशिष्ट अतिथि एवं इग्नू, वाराणसी के उप निदेशक अनिल मिश्रा ने बताया कि सरकार चाहती है कि बुनकरों को अशिक्षा के अभिशाप से मुक्त कर उन्हें भी देश की मुख्य धारा से जोड़े। उन्होंने बताया कि बुनकरों के लिये बीपीपी हेतु फार्म, प्रवेश शुल्क व अध्ययन सामग्री मुफ्त मुहैया करायी जायेगी। श्री त्रिपाठी ने बताया कि इग्नू से बीपीपी करने के बाद बीए, बीएससी, बीकाम, बीटीएस जैसे ग्रेजुएशन कोर्सेज एवं इनके इलावा अन्य डिप्लोमा कोर्सेज भी कर सकते हैं, जो निसंदेह बुनकरों के जीवन स्तर को ऊपर उठाने में मददगार साबित होंगे। 
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे पूर्व पालिका अध्यक्ष एवं बुनकर प्रतिनिधि अरशद जमाल ने मौजूद बुनकर एवं बुनकर प्रतिनिधियों तथा इग्नू के अधिकरियों के संग अपने विचारों को साझा करते हुये कहा कि भारत सरकार ने बुनकरों के लिये इग्नू के द्वारा शिक्षा को प्रोत्साहन देने और विशेषकर बुनकरों की शिक्षा के स्तर को ऊपर उठाने के लिये फीस माफी कर अच्छा काम किया है। शिक्षा सम्बन्धी योजना के क्रियांवयन के मकसद से आयोजित इस प्रोग्राम में आप की उपस्थिति एवं सहभागिता से यह जाहिर होता है कि आप शिक्षा के प्रति आप जागरूक हैं। उन्होंने बताया कि बुनकरों में बहुत से लोग शैक्षणिक संस्थाओं में प्रवेश नहीं ले सके या लिया भी तो उन्हें बीच में ही अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी और वे बुद्धिमान होते हुये भी शिक्षा की मुख्य धारा से पिछड़ गये।

      उन्होंने बताया कि 18 से 60 वर्ष के सभी बुनकर जिनकी पढ़ाई बीच में रूक गयी वे बीपीपी (ठच्च्) कोर्स जो इण्टरमीडिएट के बराबर है में प्रवेश लेकर इण्टरमीडिएट पूर्ण करें। उन्होंने बताया कि बीपीपी कोर्स में प्रवेश लेने के लिये कोई शैक्षिक योग्यता आवश्यक नहीं है। बुनकर आवेदक को सभासद द्वारा बुनकर के रूप में प्रमाणित किया गया प्रमाण-पत्र बीपीपी में प्रवेश हेतु मान्य है। आवेदक बीपीपी में प्रवेश लेने के लिये मात्र 2 फोटो, आयु प्रमाण-पत्र लगा कर प्रवेश ले सकते हैं। श्री जमाल ने कहा कि ये बुनकरों के लिये अपनी अशिक्षा को दूर करने का सुनहरा मौका है। विशेषकर उन बुनकरों के लिये जिनकी पढ़ाई धनाभाव के कारण बीच में ही रूक गयी और उनकी महत्वाकांक्षा अधूरी रह गयी। अरशद जमाल ने प्रेरणा देते हुये बताया कि इण्टर पास करने के बाद आपको इग्नू से बीए की उपाधि हासिल करने का रास्ता साफ है। इग्नू से ग्रेजुएट होने पर आप भी देश के बड़े से बड़े काम्पेटीशन जैसे आईएएस, आईपीएस, पीसीएस एवं अन्य में अपनी योग्ता का लोहा मनवा कर देश के बड़े पदों पर अपनी सेवायें दे सकेंगे।
इस अवसर पर विशेष रूप से डा0 इमदादुलहक, जावेद चन्दन, फैयाज अहमद मेम्बर, अब्दुल कादिर मेम्बर, हफीजुर्रहमान मेम्बर, इकबाल अहमद मेम्बर, अताउल्लाह मेम्बर, डा0 अब्दुलसईद, फैयाज अहमद, शमीम सुहाग, एहसानुलहक, इं0 मु0 आदिल, मोलवी मुम्ताज अहमद, मोलवी अब्दुल बासित, मु0 नसीम, मुनव्वर अली, कन्हैया लाल, नसीम अहमद के इलावा बहुत से लोगों की सहभागिता रही।