फातिमा हास्पिटल के तत्वावधान में चलने वाले नर्सिंग स्कूल के स्नातक समारोह- Arshad Jamal News

 
नर्सिंग स्कूल के स्नातक समारोह के अवसर पर छात्र-छात्राओं में डिप्लोमा वितरित, छात्राओं ने सांकृतिक प्रोग्राम पेश किया
किसी प्रलोभन के बिना अपने दायित्वों का निर्वहन करना जरूरी-यूजिन जोसेफ
सभ्य बन कर समाज को नया आयाम प्रदान करना है-अरशद जमाल

मऊनाथ भंजन। शहर के सुप्रसिद्ध फातिमा हास्पिटल के तत्वावधान में चलने वाले नर्सिंग स्कूल के स्नातक समारोह के अवसर पर नर्सिंग सम्बन्धित 3 साला कोर्स पर आधारित डिप्लोमा उत्तीर्ण करने वाले 60 छात्र-छात्रों को सर्टिफिकेट दे कर सम्मानित किया गया। समाज में मरीजों की अच्छी देखभाल करने, एवं अपने जीवन को मानवों को राहत पहुँचाने व जीवन की रक्षा-सुरक्षा में समर्पित कर देने हेतु उन्हें शपथ भी दिलायी गयी। ज्ञातब्य रहे कि फातिमा हास्पिटल में चल रहे नर्सिंग के डिप्लोमा कोर्स की पढ़ाई हेतु पूरे देश से छात्र एवं छात्रायें आकर शिक्षा ग्रहण करते हैं। नर्सिंग कोर्सेज में डिप्लोमा इन मेडिकल लेबोरेट्री टेक्निशियन (पी.एम.एल.टी.) तथा डिप्लोमा इन जेनेरल नर्सिंग (डी.एन.एम.) के डिप्लोमा कोर्सेज शामिल हैं। इस अवसर पर छात्राओं ने सांस्कृतिक प्रोग्राम पेश कर समाज में बेटियो ंके प्रति पल रही हीन भावना को समाप्त कर उनके साथ भी बेटों जैसा व्यवहार करने का संदेश दिया। अपने संदेश में कहा कि यदि मां के पेट में ही बेटियों को माराजाता रहा तो समाज में 1000 की अपेक्षा 100 ही बची बेटियों का चलना फिरना दूभर हो जायेगा जिससे मानव जाति का संतुलन भी बुरी तरह प्रभावित हो जायेगा। इस प्रोग्राम में मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद पूर्व पालका अध्यक्ष अरशद जमाल को शील्ड देकर सम्मानित किया।
फादर यूजिन जोसेफ ने अपने उद्गार मे कहा कि आपने तीन साल मेहनत करके इस मंजिल को प्राप्त किया है जिसके लिये मैं बधाई देता हूँ। उन्होनंे कहा कि इस कोर्स से जहां आप योग्य एवं सक्षम बनते हैं वहीं स्वयं को स्वतन्त्र भी महसूस करते हैं। आपने इसी बात की शपथ भी लिया है कि अपनी इस योग्यता के प्रयोग से समाज में बिना किसी प्रलोभन के र्दर्द एवं पीड़ा से कराहती व सिसकती हुयी इन्सानियत को राहत पहुँचाने के उपाय करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि अपनी सेवा की नैतिकता का पालन करते हुये सर्वसाधरण के लिये सेवा भाव से समर्पित रहेंगे तो यह डिग्री आपको सम्पन्नता की ओर ले जायेगी।
 
 
           वरिष्ठ चिकित्सक डा0 जूड ने अपने विचार व्यक्त करते हुये कहा कि आज आपको यह डिप्लोमा देकर यह बात बतायी जा रही है कि आप नर्सिंह सेवा हेतु योग्य हैं और इस क्षेत्र में आपकी निपुणता विश्वस्नीय है। और आप अब कहीं जाकर मानव जीवन की हिफाजत के लिये अपनी सेवायें दे सकते हैं। आपको सैकड़ों सप्नों को साकार करना है। डा0 जूड ने कहा कि हमें समस्याओं से जूझकर मंजिल की ओर लगातार बढ़ते रहना चाहिये तभी हम वांछित मंजिल की ओर जा पाते हैं। उन्होंने कहा कि मैं एक ऐसे व्यक्ति का उदाहरण पेश करती हूँ जो हमारे बीच मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद हैं जो विकास के लिये सतत् प्रयास करते रहते हैं। डा0 जूड ने छात्र-छात्राओं को बताया कि फातिमा अस्पताल का यह मुख्य मार्ग इन्हीं के प्रयासों से दोगुना चैड़ा हो पाया है जिसके लिये श्री अरशद जमाल बधाई के पात्र हैं। 
 

          इस अवसर पर पूर्व पालिका अध्यक्ष अरशद जमाल ने नर्सिंग में स्नातक उपाधि प्राप्त करने वालों को बधाई दी। छात्राओं के अभिनय की तारीफ करते हुये उन्होंने फातिमा प्रशासन से कहा कि आप के कुशल नेतृत्व में यह बच्चे हर क्षेत्र में निपुर्ण हैं। इतना अच्छा नृत्य, रिदम और अपने संदेश को व्यवस्थित एवं लोकप्रिय अन्दाज में प्रस्तुत करने का प्रशिक्षण आप ही इन्हें दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि हम सहिष्णु, सभ्य एवं लोगों के दुख दर्द की करूणा अपने अन्दर महसूस करने वाला बनकर ही समाज को नया आयाम दे सकते हैं। श्री जमाल ने फातिमा प्रशासन का आभार व्यक्त करते हुये कहा कि आप ने स्वास्थ एवं शिक्षा जगत में अपनी अलग पहचान बनाई है। यह आपके अनुशासन, कुशन निर्देशन और मार्ग दर्शन का ही नतीजा है कि यह छात्र-छात्रायें न सिर्फ नर्सिंग में ही निपुण हो चुके हैं बल्कि हमारे समाज की कुरीतियों, अनैतिक आचरण को अपने अभिनय के माध्यम से हमें सचेत कर समाज में बदलाव का संदेश देने में भी सक्षम हैं। उन्होंने कहा कि आप ने बेटी सुरक्षा एवं दूसरी समस्याओं को भी बड़ी बारीकी से पेश किया है। श्री जमाल ने घोषणा करते हुये कहा कि हम यह चाहते थे कि फातिमा अस्पताल के मुख्य मार्ग को और सुन्दर बना कर आज आपके बीच आयें पर आचार संहिता की वजह से हम ऐसा नहीं कर पाये लेकिन इस सम्बन्ध में 45 लाख रूपये की लगत से इस रेाड के निर्माण की प्रक्रिया पूर्ण है। 11 माच के बाद हम इस पर काम भी आरम्भ कर देंगे। उन्होंने फातिमा प्रशासन का आभार व्यक्त किया।
 


 
इस अवसर पर सिस्टर लिल्ली, सिस्टर आत्मजा, डा0 अजय, डा0 पाण्डेय, डा0 मनोज व फातिमा हास्पिटल का स्टाफ तथा छात्र-छात्राओं के माता पिता उपस्थित रहे।