खेदूपुरा में गठबन्धन की चुनावी जनसभा- Arshad Jamal News

 
खेदूपुरा में गठबन्धन की चुनावी जनसभा में अलताफ अंसारी को वोट देने की अपील
बन्धा होगा चैड़ा, शासन को नया पुल बनाने का प्रसताव भी भेजा है-अरशद जमाल
बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु संसाधन मुहैया कर विकास के बन्द द्वार खोलूँगा-अलताफ अंसारी
 
मऊनाथ भंजन। आज खेदूपुरा में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के गठबन्धन की संयुक्त चुनावी जनसभा आयोजित हुयी। इत्तेहाद के नेताओं ने अवाम से अलताफ अंसारी के लिये वोट की अपील की। वक्ताओं ने प्रदेश सरकार की नीतियों, उपलब्धियों एवं भावी योजनाओं से भी आम लोगों को अवगत कराया।
सभा में गठबन्धन के मऊ सदर विधान सभा प्रत्याशी अलताफ अंसारी ने अवाम को सम्बोधित करते हुये कहा कि लम्बे अर्से से हो रही आपकी अपेक्षाओं की अन्देखी और शिथिलता ने आज पूने नगर क्षेत्र को विषम परिस्थितियों के चपेट में ले लिया है। न शिक्षार्जन हेतु क्षिक्षण संस्थान बनाये गये, न कारोबार के लिये कोई व्यापार केन्द्र की स्थापना की गयी और न ही अन्य मूल-भूत सुविधाओं हेतु संसाधन मुहैया कराये गये जो जनप्रतिनिधि की अहम जिम्मेदारियों में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि अवाम के हित के कार्य अवाम की पीड़ा और दर्द समझने वाला व्यक्ति ही कर सकता है। उन्होंने कहा कि मजबूत सियासत ही आपकी पहचान है। जब सियासत पर आपकी पकड़ कमजोर होने लगी तो लगातार आपकी पहचान कमजोर होने लगी और आपके कारोबार का ग्राफ भी नीचे गिरने लगा। अलताफ अंसारी ने कहा कि मौलाना हबीबुर्रहमान के बाद मजबूत नेतृत्व की अनुपलब्धता के चलते और 30 वर्षाें से गैरों को अपनी देख-रेख की कमान सौंप देने से नगर अपने विकास की डगर से भटक गया है। आप द्वारा चुने गये प्रतिनिधियों ने आपका हक डकार लिया है। अगर आप अस्पताल, अच्छी सस्ती शिक्षा, कारोबार की उन्नति, चैड़े रोड, बन्धा चैड़ीकरण, चमचमाती सड़कें, नया पुल और विकास के समस्त संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित कराना चाहते हैं तो अब अपने इस संयुक्त इरादे को मुहर लगा दीजिये। मैं हार कर भी आपकी सेवा में लगा रहा। मुझे मौका दें। उन्होंने अपनी प्रतिबद्धता दोहराते हुये कहा कि मुझे मौका मिला तो सरकार बनते ही 6 माह के भीतर आपको विकास की डगर पर वापस लाकर खुशहाली लाऊँगा। इसके लिये विकास के बन्द द्वार खुलवा कर बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु संसाधन मुहैया करऊँगा।
 
 
            पूर्व पालिका अध्यक्ष अरशद जमाल ने लोगों को सम्बोधित करते हुये कहा कि अगर हमारी वकालत करने वाला कोई हमारा जनप्रतिनिधि लखनऊ में होता तो हमारे विकास में विध्न नहीं आता। श्री जमाल ने कहा कि हमारी आवाज दबी हुयी है हमारी वकालत करने वाला कोई नहीं और यह चुनाव आप द्वारा आपके जनप्रतिनिधयों के कार्याें का आँकलन एवं उनकी योग्यता तथा शिथिलता के प्रति उन्हें जिम्मेदारी देने या उनसे जिम्मेदारी वापिस लेने का संवैधानिक अवसर है, जिसमें आपको अब चूक नहीं करना है। उन्होंने कहा कि इस बन्धे पर एक नया पुल बनाने के लिये बहुत पहले नगर पालिका की तरफ से हम ने शासन को प्रस्ताव भेजा है, पर वहां हमारी आवश्यकताओं के बारे में वकालत करने वाला न होने से हमारी तमाम प्रस्तावित विकास योजजनायें दबी पड़ी हैं। आपका यह जनसैलाब इस बात का द्योतक है कि आप अपने एवं क्षेत्र के विकास हेतु बदलाव की डगर पर पूरी दृढ़ता के साथ चल पड़े हैं। आप अपने बेटे अलताफ अंसारी को एक पंज साला के लिये विधायक चुनकर सदन में भेज दीजिये। फिर 6 माह के भीतर सईदी रोड़ चैड़ीकरण, बन्धा चैड़ीकरण एवं क्षेत्र की अन्य आवश्यक बुनियादी जरूरतों पर काम आरम्भ हो जायेगा और नये पुल के प्रस्ताव की संस्तुति हेतु शासन पर भी आवश्यक दबाव डाले जाने लगेंगे। 
 
          मेहमान वक्ता नदीम फारूकी ने अपने सम्बोधन में कहा कि 1993 में समाजवादी पार्टी ने आपनी स्थसापना से लेकर अबतक साम्प्रदायिक ताकतों से डटकर मुकाबला किया है और अल्पसंख्यकों के हक-हुकूक की लड़ाई लड़ी है। उन्होंने कहा कि सपा सभी के उत्थान को लेकर चिन्तित एवं क्रियाशील रही है। विशेषकर मुसलिम समाज के हक में बहुत कार्य किये हैं। श्री कादरी ने कहा इस उमड़ी हुयी भीड़ को देख कर मुझे यकीन है कि अब आप अपने बच्चों की अच्छी शिक्षा, स्वास्थ्य एवं कारोबार के लिये अपने ही बीच से अपने दुखदर्द को बांटने वाले अलताफ अंसारी को चुनकर सदन में अपनी नुमाइन्दगी कराने के प्रण को जरूर पूरा करेंगे जिस पर आपके भविष्य का सारा दारोमदार टिका हुआ है। 
श्री तैयब पालकी, अब्दुस्सलाम शामियाना, शोएब नोमानी, अलतमश अंसारी आदि गठबन्धन के नेताओं ने भी अवाम को सम्बोधित किया और उनसे अलताफ अंसारी को वोट करने की अपील की। अलताफ अंसारी के समर्थन में कल 1 मार्च को ढ़ेकुलिया घाट पुल के पास उ0प्र0 के मा0 मुख्यमंत्री महोदय का आगमन हो रहा है, जिसमें भारी संख्या में पहुँच कर उन्हें सुनने व उनके हाथों को मजबूती प्रदान करने की वक्ताओं ने अवाम से अपील की।
 
 
             इस अवसर पर विशेष रूप से मुहम्मद जकरिया, मोलवी सुफियान, सभासद मंजूर अहमद, इस्माईल, अहमद सोहैब अर्सलान (ऐमन), कारी जीमल, इकबाल अहमद, अब्दुल वदूद, सैफुर्रहमान, अबू फैसल, नौशाद अहमद, मुख्तार हुसैन, कुर्रतुलऐन, मसऊद, खुर्शीद अहमद, हाजी नसीम अहमद, अमीरुल्लाह खां, शकील अहमद आदि के इलावा भारी संख्या में क्षेत्रीय लोग उपस्थित रहे। सभा का संचालन जहीर सेराज ने किया तथा अध्यक्षता हाजी शमीम ने की।