कियारी टोला के सहन में जनसभा, जान की परवाह नहीं, उन्नति के मार्ग की रुकावटों को दूर किये बिना नहीं लुँगा दम-अरशद जमाल

 
जनसभा के दौरान शहर का विकास रहा केन्द्र
विधायक जी के अधिकतर कार्यकर्ता अरशद जमाल के साथ-डा0 इम्दादुलहक
बेवफाई कर नहीं सकता, जान की परवाह नहीं, उन्नति के मार्ग की रुकावटों को दूर किये बिना नहीं लुँगा दम-अरशद जमाल
 
मऊनाथ भंजन। समाजवादी पार्टी से मऊ नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष पद के उम्मीदवार अरशद जमाल ने आज कियारी टोला के सहन में जनसभा को सम्बोधित किया। इस जनसभा में चुनावी रणनीति, घोषणा पत्र एवं अपनी प्राथमिकताओं में जनकल्याणकारी योजना के क्रियांवयन के प्रति प्रतिबद्धता से अवाम को अवगत कराया।
 
 
इस अवसर पर डा0 इम्दादुलहक अलीग ने लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि मऊ के विकास एवं नगर की उन्नति तथा स्वाभिमान के प्रति हमारी शिथिलता के चलते ही ऐसा हुआ है कि हमारे बीच अपना कोई कुशल जनप्रतिनिधि नहीं जो केन्द्रीय एवं प्रान्तीय सदनों में हमारी समस्याओं के समाधान के लिये आवाज बुलन्द करता हो। जिसका कारण इसके सिवा और क्या हो सकता है कि हमने अपने राजनैतिक मताधिकार का प्रयोग अपने क्षेत्र के हित को नजर अन्दाज करते हुये किया तो जनहित में मताधिकार का उचित प्रयेाग न कर पाने के सबब आज हमारे बीच नाना प्रकार की जनसमस्यायें एवं अड़चनें खड़ी हैं। जबकि नगर क्षेत्र के प्रति चिन्तित एक मात्र नेता अरशद जमाल ने ही विकास को जिन्दा रखा है। जब मुझे और मेरे साथियों को शहर के उन्नति की चिन्ता सताने लगी तो हम नगर विकास पुरुष अरशद जमाल के साथ इस चुनाव में दृढ़ता से इनके साथ खड़े हैं। क्योंकि उन्होंने ही शहर को गन्दगी के ढ़ेर से मुक्ति दिलायी और इसे विकास की ध्ुारि पर दौड़ाया है। इन्होंने मऊ नगर को अपने कार्याें से उत्तर प्रदेश में अलग पहचान दिलाई है।
 
 
जनसभा को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य अल्ताफ अंसारी, मास्टर इजहारुलहक अंसारी, अख्लाक अहमद आदि नेताओं ने सम्बोधित किया। कहा कि यह समय की मांग है कि आप अपनी मदद के लिए राजनैतिक चेतना को काम में लायें और अपने राजनैतिक अधिकारों का प्रयोग अपने क्षेत्र की समस्याओं के समाधान के लिये सार्थक कदम उठाते हुये जनता के कल्याण के पक्ष में अपना सहयोग अरशद जमाल को दें। कहा कि आज की सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता हैै कि लोग ऐसे प्रतिनिधि को चुनें जो सबसे बेहतर और जनता के दुख-दर्द में अपनी सेवाओं के प्रति समर्पित हो। अरशद जमाल के हाथों में मऊ नगर का भविष्य सुरक्षित एवं उज्ज्वल है।
 
 
इस अवसर पर उपस्थित अवाम को सम्बोधित करते हुए समाजवादी पार्टी से मऊ नगर पालिका के अध्यक्ष पद के उम्मीदवार अरशद जमाल ने कहा कि केंद्र और राज्य में भाजपा की सरकारें हैं, जिनके काम के चलते देश की उन्नति बाधित एवं कोरोबार ठप है तथा देश भर में भय का माहौल व्याप्त है। इन सरकारों की नीयत में खोट है और ये नीति विहीन हैं। बुनकरों की पास बुक पर मिलने वाली सब्सिडी उन्हें एक आंख नहीं भाती, गरीबों को प्रताड़ित करते हैं। जनता के हित के लिय समाजवादी पार्टी सड़क से कोर्ट तक लड़ेगी। श्री जमाल ने कहा कि सभी धर्मों के मानने वालों में संतोष होना चाहिए और यह संतुष्टि सरकारों द्वारा जनता के कल्याण के लिए किए जाने वोल काम से बनती है, मगर अफसोस इन्होंने अब तक कोई ऐसा काम किया ही नहीं जो लोगों को अनिश्चितता से उबार सके। कहा कि मऊ के लोगों ने हमेशा मऊ में साम्प्रदायिक ताकतों के खिलाफ आपसी सद्भाव को शक्ति एवं बल दिया है। अल्पसंख्यकों की जान, माल, सम्मान और आबरु की रक्षा की जिम्मेदारी बहुसंख्यकों पर होती है। अल्पसंख्यक केे प्रति अपना मन्तब्य बताते हुये कहा कि इसका सम्बन्ध किसी धर्म से नहीं होता बल्कि जो लोग जिस क्षेत्र में कम संख्या में होते हैं वे वहाँ पर अल्पसंख्यक हैं। उन्होंने कहा कि मेरी प्रकृति में  वफादारी भरी हुई है। मैं बेवफाई नहीं कर सकता और आप की सेवा करते समय मुझे अपनी जान व माल की परवाह नहीं रहती। मैं कभी भी जब शहर के लोगों को मेरी जरुरत पड़ी साथ खड़ा रहा। किसी भी समस्या के समय कभी भी छोड़कर नहीं भागा। उन्होंने कहा कि मैं नगर के विकास की बाधाओं को दूर किए बिना दम नहीं ले सकता। मैंने खुद को सार्वजनिक सेवाओं और शहर के विकास के लिए समर्पित कर दिया है। मैं हर अच्छी बुरी स्थिति में आपकी सेवायें जारी रखूंगा। कहा कि विश्वास दिलाता हूँ कि आप मुझे अपना प्रतिनिधि चुनकर कभी अफसोस नहीं करेंगे।
इस अवसर पर विशेष रूप से शमशाद बॉम्बेे पूर्व सभासद, शाहिद लारी, नूरुलहसन दरबार, अरशद चैधरी, इम्तेयाज किराना, शब्बीर अहमद दलाल, नासिर, ताबिश, आफताब अहमद, कामरान, शाहिद, साजिद, होजैफा, आसिफ अली, जैद अली, शमशेर, मोहम्मद साद, अन्जर कमाल, मुहम्मद साकिब, मुश्ताक अहमद आदि के इलावा बड़ी संख्या में क्षेत्रीय लोग मौजूद रहे। अध्यक्षता हाजी जुल्फेकार अहमद दरबार ने की एवं संचालन मुख्तार हुसैन ने किया।